Warning: include(/home/ekhaliya/public_html/whtsappjokes/wp-content/plugins/constant-contact-forms/vendor/composer/../webdevstudios/wds-shortcodes/vendor/tgmpa/tgm-plugin-activation/class-tgm-plugin-activation.php): failed to open stream: No such file or directory in /home/ekhaliya/public_html/whtsappjokes/wp-content/plugins/mojo-marketplace-wp-plugin/vendor/composer/ClassLoader.php on line 444

Warning: include(): Failed opening '/home/ekhaliya/public_html/whtsappjokes/wp-content/plugins/constant-contact-forms/vendor/composer/../webdevstudios/wds-shortcodes/vendor/tgmpa/tgm-plugin-activation/class-tgm-plugin-activation.php' for inclusion (include_path='.:/usr/local/php56/pear') in /home/ekhaliya/public_html/whtsappjokes/wp-content/plugins/mojo-marketplace-wp-plugin/vendor/composer/ClassLoader.php on line 444
जय बाबा महाकाल भक्त हु बाबा का ! - Whatsapp Jokes

जय बाबा महाकाल भक्त हु बाबा का !

सावन के सोमवार की धार्मिक तोर पर बहुत महत्वपूर्ण है| इस माह में महादेव शिव की आराधना की जाती है| सावन का माह एक बहुत ही पवित्र और शुभ माह होता है| ये माह एक प्रकार का धार्मिक पर्व है जो की पूरे एक महीना चलता है| कहा जाता है की इस पर्व पर जो भी महादेव की पूजा करता है उसके जीवन से सारे संकट दूर हो जाते है|

मन को छोड़ तू क्यों वियर्थ चिंता करता है तू भक्त है बाबा महाकाल का …..

मन छोड़ व्यर्थ की चिंता तू शिव
का नाम लिये जा
शिव अपना काम करेंगे तू अपना काम किये जा
शिव शिव शिव ऊँ: नम: शिवाय

भक्ति में है शक्ति बंधू,
शक्ति में संसार है,
त्रिलोक में है जिसकी चर्चा
उन शिव जी का आज त्यौहार है..
सावन के दूसरे सोमवार की बधाई..”
हेसियत मेरी छोटी है पर मन मेरा शिवाला है
करम तो मैं करता जाऊंगा
क्योकि
साथ मेरे डमरूवाला है|
ॐ नमः शिवाय
Shiv ki shakti, Bhole ki bhakti,
khushiyo ki bahar de,
Mahadev ki kripa se aapko zindgi ke har
kadam par safalta mile.Happy Month of shavan
मोबाइल का नेटवर्क भले ही 3G या 4G हो पर
संसार का नेटवर्क शिवG से ही चलता है…!
पवित्र सावन मास की हार्दिक शुभकामनाएँ”
करू क्यों फ़िक्र की मौत के बाद जगह कहाँ मिलेगी!!
जहाँ होगी मेरे महादेव की महफिल मेरी रूह वहाँ मिलेगी..”

=”राम भी उसका रावण उसका
जीवन उसका मरण भी उसका..
तांडव है और ध्यान भी वो है,
अज्ञानी का ज्ञान भी वो है..