वरुथिनी एकादशी की अनंत सुभकामना !! Varuthini Ekadashi 2018 WhatsApp, SMS, Greetings

About Varuthini Ekadashi, Varuthini Ekadashi Story / Vrat Katha, Puja Vidhi, Mantra, Benefits, Varuthini Ekadashi 2018, 2019 Date, Parana Time, Varuthini Ekadashi 2018 WhatsApp, SMS, Greetings
Varuthini Ekadashi 2018 Hindi Greetings & WhatsApp Messages

Varuthini Ekadashi is a Hindu holy day celebrated on the 11th lunar day (Ekadashi Tithi) of the Krishna Paksha (waning moon phase) in the Hindu Calendar month Chaitra or Vaisakha (as per North Indian Calendar) which in the Gregorian calendar falls in April or May.

वरुथिनी एकादशी की अनंत सुभकामना !! Varuthini Ekadashi 2018 WhatsApp, SMS, Greetings

बरूथनी एकादशी | Varuthini Ekadashi | Varuthini Ekadashi Fast Method – Varuthani Ekadashi Fast Story

वैशाख मास के कृ्ष्ण पक्ष की एकादशी बरुथनी एकादशी के नाम से जानी जाती है. यह व्रत सुख सौभाग्य का प्रतीक है. इस दिन जरुरतमंद को दान देने से करोडों वर्ष तक ध्यान मग्न होकर तपस्या करने तथा कन्यादान के भी फलों से बढकर बरूथनी एकादशी व्रत के फल कहे गये है.

बरूथनी एकादशी करने वाले व्यक्ति को खासतौर पर उस दिन दातुन का प्रयोग करने, परनिंदा करने, क्रोध करने, और असत्य बोलने से बचना चाहिए. इसके अतिरिक्त इस व्रत में तेल युक्त भोजन भी नहीं किया जाता है. इसकी कथा सुनने से सौ ब्रह्मा हत्याओं का दोष नष्ट होता है. इस प्रकार यह व्रत बहुत ही फलदायक कहा गया है.

बरूथनी एकादशी व्रत महत्व | Importance of Varuthini Ekadashi Vrat

बरूथनी एकादशी व्रत को करने से दु:खी व्यक्ति को सुख मिलते है. राजा के लिये स्वर्ग के मार्ग खुल जाते है. इस व्रत का फल सूर्य ग्रहण के समय दान करने से जो फल प्राप्त होता है, वही फल इस व्रत को करने से प्राप्त होता है. इस व्रत को करने से मनुष्य लोक और परलोग दोनों में सुख पाता है. और अंत समय में स्वर्ग जाता है.

शास्त्रों में कहा गया है, कि इस व्रत को करने से व्यक्ति को हाथी के दान और भूमि के दान करने से अधिक शुभ फलों की प्राप्ति होती है. सभी दानों में सबसे उतम तिलों का दान कहा गया है. तिल दान से श्रेष्ठ स्वर्ण दान कहा गया है. और स्वर्ण दान से भी अधिक शुभ इस एकादशी का व्रत करने का उपरान्त जो फल प्राप्त होता है, वह कहा गया है

बरूथनी एकादशी व्रत कथा | Varuthini Ekadashi Vrat Katha in Hindi

प्राचीन समय में नर्मदा तट पर मान्धाता नामक राजा राय सुख भोग रहा था. राजकाज करते हुए भी वह अत्यन्त दानशील और तपस्वी था. एक दिन जब वह तपस्या कर रहा था. उसी समय एक जंगली भालू आकर उसका पैर चबाने लगा. थोडी देर बाद वह राजा को घसीट कर वन में ले गया. तब राजा ने घबडाकर, तपस्या धर्म के अनुकुल क्रोध न करके भगवान श्री विष्णु से प्रार्थना की. भक्त जनों की बाद शीघ्र सुनने वाले श्री विष्णु वहां प्रकट हुए़.

तथा भालू को चक्र से मार डाला. राजा का पैर भालू खा चुका था. इससे राजा बहुत ही शोकाकुल था. विष्णु जी ने उसको दु:खी देखकर कहा कि हे वत्स, मथुरा में जाकर तुम मेरी वाराह अवतार मूर्ति की पूजा बरूथनी एकादशी का व्रत करके करों, इसके प्रभाव से तुम पुन: अंगों वाले हो जाओगें. भालू ने तुम्हारा जो अंग काटा है, वह अंग भी ठिक हो जायेगा. यह तुम्हारा पैर पूर्वजन्म के अपराध के कारण हुआ है. राजा ने इस व्रत को पूरी श्रद्वा से किया और वह फिर से सुन्दर अंगों वाला हो गया.

व्रत के दिन ध्यान रखने योग्य बातें | Things to remember for Varuthini Vrat

बरूथनी एकादशि का व्रत करने वाले को दशमी के दिन से निम्नलिखित दस वस्तुओं का त्याग करना चाहिए.

1. कांसे के बर्तन में भोजन नहीं करना चाहिए.
2. मांस नहीं खाना चाहिए.
3. मसूर की दान नहीं खानी चाहिए.
4. चना नहीं खाना चाहिए.
5. करोदें नहीं खाने चाहिए.
6. शाक नहीं खाना चाहिए.
7. मधु नहीं खाना चाहिए.
8. दूसरे से मांग कर अन्न नहीं खाना चाहिए.
9. दूसरी बार भोजन नहीं करना चाहिए.
10. वैवाहिक जीवन में संयम से काम लेना चाहिए.

Varuthini Ekadashi is a highly auspicious day dedicated to worship of Vamana avatar of Lord Vishnu (fifth avatar) to get rid of all your sins, sorrows and griefs.

In 2018, Varuthini Ekadashi will be celebrated on Thursday, 12th April 2018.

Find below a collection of latest Varuthini Ekadashi WhatsApp, SMS, Text Messages & Greeting Cards which you can send to all your friends, relatives and near-dear ones, especially devotees of Lord Vishnu and wish them Happy Varuthini Ekadashi

वरुथिनी एकादशी के पवन पर्व पर
भगवान श्री विष्णु से प्रार्थना करता हु की
आपके सभी पाप नष्ट हो जाये
वरुथिनी एकादशीच्या पावन पर्व वर
भगवान श्री विष्णूच्या कृपेने
आपले सर्व पाप नष्ट होऊ या
हर घर के आंगन में तुलसी,
तुलसी बड़ी महान है,
जिस घर में ये तुलसी रहती,
वो घर स्वर्ग समान है।

वरुथिनी एकादशी की शुभकामनाएं
गन्ने के मंडप सजाएंगे हम,
विष्णु-तुलसी का विवाह रचाएंगे हम,
आप भी होना खुशियों में शामिल,
एकादशी का पर्व मिलकर मनाएंगे हम।

वरुथिनी एकादशी की शुभकामनाएं।।